शारीरिक कमजोरी और दिक्कत होने के बावजूद भी यह दिव्यांग बच्चे संचालित कर रहे हैं ये अनोखा ढाबा, और कमा रहे हैं खूब सारा नाम

महाराष्ट्र , पुणे में एफसी रोड पर स्थित एक खास रेस्टोरेंट है ,जिसका संचालन सिर्फ दिव्यांग लोग ही करते हैं।

आज के समय में रोजगार मिलना बहुत ही कठिन हो गया है। आजकल समाज में बेरोजगारी इतनी बढ़ गई है कि, आपको आए दिन चोरी, मर्डर या किसी के साइबर क्राइम करते, खाते से पैसा चुराना साइबर क्राइम जैसे अपराध सुनने के लिए मिलता होगा। आजकल ये हमारे समाज में बढ़ गया है। लोगों को काम ना मिलने के कारण और नए-नए रास्ते ढूंढते हैं जुल्म का। ताकि वह पैसे कमा सके। इसके लिए वह बुरे काम करने में भी हिचकीचाते नहीं है। ऐसे समय में आज एक ऐसा रेस्टोरेंट है, जहां पर दिव्यांग लोगों को रोजगार मिल रहा है। जी हां दोस्तों आपने सही सुना, दिव्यांग लोगों को रोजगार देने वाला यह पहला रेस्टोरेंट है Terrasinne । इसको पूरी तरह से संचालन करने का काम दिव्यांग लोग ही कर रहे हैं।

 “Terrasinne”। जहां शारीरिक अक्षमता वाले लोग वहां आने वाले कस्टमर को सभी प्रकार की सेवा देते हैं।
“Terrasinne”। जहां शारीरिक अक्षमता वाले लोग वहां आने वाले कस्टमर को सभी प्रकार की सेवा देते हैं।

आइए जानते हैं इस अनोखे रेस्टोरेंट Terrasinneके बारे में?

महाराष्ट्र , पुणे में एफसी रोड पर स्थित एक खास रेस्टोरेंट है ,जिसका संचालन सिर्फ दिव्यांग लोग ही करते हैं। इस रेस्टोरेंट का नाम “Terrasinne”। जहां शारीरिक अक्षमता वाले लोग वहां आने वाले कस्टमर को सभी प्रकार की सेवा देते हैं। उन लोगों की मेहनत और लगन देखकर आम आदमी के अंदर भी जुनून की लहर दौड़ जाती है। आजकल लोग ,जो कि अपने शरीर से बिल्कुल स्वस्थ हैं। वह भी कोई काम करना नहीं चाहते हैं। सड़क पर आपने कई ऐसे भिखारियों को देखा होगा ,जिनके हाथ पैर है । लेकिन फिर भी वह भीख मांग कर खा रहे हैं। ऐसे में ये दिव्यांग लोग जिनके कुछ ना कुछ दिक्कत है।

शारीरिक कमज़ोरी है, लेकिन मन से मजबूत है
शारीरिक कमज़ोरी है, लेकिन मन से मजबूत है

इसे भी अवश्य पढ़े:-ये कोई सामान्य दीया नहीं है, कुछ घंटे नहीं, बल्कि 36 घंटो तक लगातर जलता है ये अनोखा दीया, इस कुम्हार ने बनाया है ये जादुई दीया

शारीरिक कमज़ोरी है, लेकिन मन से मजबूत है

शारीरिक दिक्कतों के बावजूद भी वह अपना पेट अपनी कमाई से पाल रहे हैं। और अपने परिवार वालों को भी संभाल रहे हैं। अपनी आर्थिक स्थिति उन्होंने कभी खराब नहीं होने दी। और किसी को कभी भी किसी से कम नहीं समझा। ऐसे दिव्यांग लोगों को हमारा सलाम है ,और इनसे सभी उन लोगों को शिक्षा लेनी चाहिए ,जो आजकल काम से बचना चाहते हैं ।रोजी रोटी के लिए कभी चोरी करते हैं ,तो कभी जेवर लूट कर ले जाते हैं। तो दोस्तों यह रेस्टोरेंट Terrasinne आज के समय में लोगों के लिए एक मिसाल कायम कर रहा है ‌।कि अगर आप चाहे तो कुछ भी कर सकते हैं, और कोई भी इंसान भले ही वह दिव्यांग क्यों ना हो किसी भी नॉर्मल इंसान से कम नहीं है।

 शारीरिक दिक्कतों के बावजूद भी वह अपना पेट अपनी कमाई से पाल रहे हैं।
शारीरिक दिक्कतों के बावजूद भी वह अपना पेट अपनी कमाई से पाल रहे हैं।

इसे भी अवश्य पढ़े:- ज़िंदगी के सफर में पति ने साथ छोड़ दिया, तो हो गयी थी डिप्रेशन का शिकार, बच्चो ने दी हिम्मत, तो वेट लिफ्टिंग में बन गयी गोल्ड मैडल चैंपियन

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका आभार ,ऐसे ही दिलचस्प खबरों के लिए जुड़े रहिये समाचार बडी से, धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *