समाज ने ठुकराया, लेकिन प्रेमी ने अपनाया, किन्नर से शादी करके दे रहा है मिसाल, इश्क़ को दे दिया नया अंजाम

एक लड़के ने किन्नर से शादी की है।

प्रेम एक ऐसा रोग है जब किसी को लगता है तो, वह ना तो अपने परिवार का सुनता है। ना ही उसे अपनी ही सुध बुध रहती है। प्यार एक ऐसी चीज है, जब किसी को हो जाता है तो, उसे किसी चीज की सुध बुध नहीं रहती ना तो उसे किसी से मतलब होता है ना ही वह किसी की सुनता है। और यह लाइलाज बीमारी है इस दुनिया में जिसे एक बार यह प्रेम हो जाता है, फिर उसे काबू कर पाना नामुमकिन हो जाता है। प्रेम ना तो जाती देखता है। ना ही रंग भेदभाव करता है नहीं उम्र देखता है प्रेम तो इन सबसे ऊपर है। इंसान जिसकी कल्पना नहीं कर सकता प्रेम उससे भी हो जाता है . असल में एक ऐसी घटना प्रतापगढ़ के गहरौली गांव से सुनने में आया है ,जहां किन्नर प्रेमी जोड़ा ने प्रेम विवाह कर लिया।

दूल्हा शिव कुमार अंजली से डेढ़ साल पूर्व एक दूसरे से मिले थे
दूल्हा शिव कुमार अंजली से डेढ़ साल पूर्व एक दूसरे से मिले थे

किन्नर से की शादी

यहां लड़के ने एक किन्नर से शादी की है ,जी हां दोस्तों एक लड़के ने किन्नर से शादी की है। यह विवाह एक मिसाल बनकर सबके सामने आया है। जहां किन्नर को समाज अपने से दूर रखते हैं, वहां इस लड़के ने उससे शादी करके लोगों का भ्रम तोड़ा है। दूल्हा शिव कुमार अंजली से डेढ़ साल पूर्व एक दूसरे से मिले थे,दोनों एक दूसरे को देखते ही देखते एक दूसरे को दिल दे बैठे थे, जिसके बाद दोनों एक दूसरे से लगभग रोजाना मिलने लगे। जिससे दोनों के बीच प्यार बढ़ गया। दोनों को जब लगा कि, दोनों एक दूसरे के लिए बने हैं, तब दोनों ने शादी करने का निर्णय लिया ,लेकिन जब दोनों के रिश्ते की बात घर वालों के बीच चली तो दोनों के घर वाले ने सीधे-सीधे शादी के के लिए मना कर दिया ।

दोनों शादी करने के लिए नंदीग्राम के प्राचीन मंदिर में शादी संपन्न की गई
दोनों शादी करने के लिए नंदीग्राम के प्राचीन मंदिर में शादी संपन्न की गई

इसे भी अवश्य पढ़े:-बिहारी बाबू पर आया रुसी हसीना का दिल, सात समुन्दर पार करके आयी भारत, रचाई शादी

कहते हैं ना प्रेम की आग लग जाए तो बुझाते नहीं बुझती , दोनों के प्रेम के आगे परिवार वालों को भी झुकना पड़ा था। दोनों ने शादी कर ली ,दोस्तों दोनों शादी करने के लिए नंदीग्राम के प्राचीन मंदिर में शादी संपन्न की गई ,जिसकी स्थापना भगवान राम के अनुज भरत के द्वारा की गई थी। ग्राम के प्राचीन मंदिर के पुजारी पंडित अरुण कुमार तिवारी जी ने बताया, कि दोनों किन्नर शादी के लिए जब आए तब पूरे गांव के लोग भी इस शादी के साक्षी बनने के लिए उपस्थित थे। दोनों बच्चे को गोद लेंगे, शादी के बाद किसी बच्चे को गोद लेंगे ताकि उस बच्चे का जीवन संवार सकें।दोस्तों दोनों की इस फैसले से गांव के सभी लोग इनकी तारीफ के पुल बांध रहे हैं, उनकी शादी से खुश नजर आ रहे हैं।

जहां किन्नर को समाज अपने से दूर रखते हैं, वहां इस लड़के ने उससे शादी करके लोगों का भ्रम तोड़ा है।
जहां किन्नर को समाज अपने से दूर रखते हैं, वहां इस लड़के ने उससे शादी करके लोगों का भ्रम तोड़ा है।

इसे भी अवश्य पढ़े:-क्रिकेटर वीरेंद्र सेहवाग ने दिल दे दिया था, अपने ही रिश्तेदार को, परिवार नहीं चाहता था शादी कराना, लेकिन.

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका आभार ,ऐसे ही दिलचस्प खबरों के लिए जुड़े रहिये समाचार बडी से, धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *