नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दिखा दुर्लभ धूमिल तेंदुआ,

नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दिखा दुर्लभ धूमिल तेंदुआ

शोधकर्ताओं ने बताया है कि ये तेंदुआ पेड़ पर चढ़ने में माहिर होता है। इसके पैरों में बहुत ताकत होती है। वो ना केवल तेजी से दौड़ने में सक्षम होता है, बल्कि पलक झपकते ही पेढ़ पर चढ़ जाता है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि यह बहुत ही खूंखार होता है जो पलक झपकते ही किसी का भी शिकार कर सकता है।तेंदुओं की यह प्रजाति लुप्तप्राय है, इसलिए नागालैंड के पहाड़ों में यह नजर आने पर वन्य जीव प्रेमियों को बड़ी खुशी मिली है।नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दुर्लभ धूमिल तेंदुआ दिखाई दिया है। कुछ शोधकर्ताओं की एक टीम ने नागालैंड के जनजातीय बहुल 3700 मीटर की ऊंचाई वाले पर्वतीय क्षेत्र में इसे अपने कैमरों में कैद किया है।

नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दिखा दुर्लभ धूमिल तेंदुआ
नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दिखा दुर्लभ धूमिल तेंदुआ

इसे भी पढ़े :-रणबीर कपूर बचपन में अपने ही स्कूल की टीचर के साथ ऐसी हरकत कि?

नागालैंड के पहाड़ी क्षेत्रों में पहली बार दिखा दुर्लभ धूमिल तेंदुआ

जहां धूमिल तेंदुआ मिला है, वह इलाका भारत-म्यांमार सीमा से जुड़ा हुआ है। विश्व के कुछेक इलाकों में ही इतनी ऊंचाई पर तेंदुए मिले हैं। तेंदुओं की यह प्रजाति लुप्तप्राय है, इसलिए नागालैंड के पहाड़ों में यह नजर आने पर वन्य जीव प्रेमियों को बड़ी खुशी मिली है। वन्य जीव शोधकर्ताओं ने धूमिल तेंदुओं को लेकर की गई अपनी शोध रिपोर्ट हाल ही में ‘कैट न्यूज’ के शीतकालीन अंक में प्रकाशित की है।

तेंदुओं को नागालैंड के ग्रामीण 'बादल वाले तेंदुए' या 'खेफक'
तेंदुओं को नागालैंड के ग्रामीण ‘बादल वाले तेंदुए’ या ‘खेफक’

दुर्लभ तेंदुआ नियोफिलिस निबुलोसा वर्ग का है। यह तेंदुए की सबसे छोटी प्रजाति है। इन तेंदुओं को पेड़ों पर चढ़ने में महारथ हासिल है। आईयूसीएन की वन्य जीवों की सूची में यह प्रजाति लुप्तप्राय होकर खतरे में है। धूमिल तेंदुए की ताजा तस्वीरें पूर्वी नागालैंड के किफिर जिले के थानामीर गांव के जंगल में खींची गई थीं।

इसे भी पढ़े :-तमन्ना भाटिया के आर-पार दिखे कपडे जिसे पहन कर वर्कआउट करती आई नजर

ग्रामीण कहते हैं बादल वाले तेंदुए

इन तेंदुओं को नागालैंड के ग्रामीण ‘बादल वाले तेंदुए’ या ‘खेफक’ कहते हैं। खेपक का अर्थ होता है भूरे रंग की बड़ी बिल्ली। शोधार्थियों ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उन्हें दो वयस्क व दो शावक तेंदुए नजर आए हैं। टीम ने माउंट सरमती की चोटी के करीब 3,700 मीटर पर पेड़ पर रखे एक कैमरे से इनकी तस्वीरों को लिया। रिपोर्ट को राम्या नायर, एलेम्बा यिमखिउंग, हैंकिमोंग यिमखिउंग, कियानमोंग यिमखिउंग, यापमुली यिमखिउंग, तोशी वुंगटुंग, अविनाश बस्कर और साहिल निझावन ने तैयार किया है।

ग्रामीण कहते हैं बादल वाले तेंदुए
ग्रामीण कहते हैं बादल वाले तेंदुए

दुर्लभ और बादल वाले तेंदुओं के बारे में कहा गया है कि नागालैंड में इनकी आबादी अब बढ़ सकती है।हमारे इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आप सबका धन्यवाद और इस प्रकार की ओर भी रोचक खबरे जानने के लिए हमारी वेबसाइड Samchar buddy .com जुड़े रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *