खुद के पिता ने पढ़ाई बंद कराने के लिए स्कूल पहुंच गए थे ,फिर नहीं मानी हार,और सबसे कम उम्र में IAS बनकर रचा इतिहास अंसार ने

खुद के पिता ने पढ़ाई बंद कराने के लिए स्कूल पहुंच गए थे ,फिर नहीं मानी हार,और सबसे कम उम्र में IAS बनकर रचा इतिहास

अगर आपके इरादे पक्के और मजबूत हों तो आप कुछ भी कर सकते हैं। यदि आपने अपने लक्ष्य को पाने के लिए ठान ही लिया हो तो फिर दुनिया की कोई ताकत आपको उससे पाने से रोक नहीं सकती है। दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से के मानी जाने वाली यूपीएससी की परीक्षा को पास कर आईएएस बनना हर किसी का सपना होता है।गरीब हो या अमीर इस परीक्षा को पास करना हर किसी का सपना होता है और कड़ी मेहनत के बदौलत कोई भी मुकाम हासिल कर सकते हैं और कोई भी मुश्किल आपके रास्ते को रोड़ा नहीं बनेगी। यही बात महाराष्ट्र के जालना के रहने वाले अंसार अहमद शेख  ने इसे सही साबित किया और जिंदगी में कई बड़ी मुश्किलों को हराते हुए आईएएस अफसर  बने। अंसार अहमद शेख ने सिर्फ 21 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा में 371वीं रैंक हासिल की।

अंसार अहमद शेख ने सिर्फ 21 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा में 371वीं रैंक
अंसार अहमद शेख ने सिर्फ 21 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा में 371वीं रैंक

इसे भी पढ़े :- आलिया-रणबीर और करण जौहर को मिली चेतावनी सुशांत सिंह राजपूत की बहन मीतू से

स्कूल पहुंच गए थे पिता पढ़ाई बंद कराने के लिए(अंसार अहमद शेख)

अंसार अहमद शेख  महाराष्ट्र के जालना जिले के एक छोटे से गांव के रहने वाले हैं और उनके परिवार की आर्थिक स्थिति खस्ताहाल थी। परिवार की माली हालत के बीच पिता और रिश्तेदारों ने उनसे पढ़ाई छोड़ने को कहा था। अंसार शेख का बचपन किसी जंग से कम नहीं था। तमाम बाधाओं से जूझते हुए अंसार ने अपने लक्ष्य को कभी नहीं छोड़ा।

पढ़ाई बंद कराने के लिए स्कूल पहुंच गए थे पिता, न
पढ़ाई बंद कराने के लिए स्कूल पहुंच गए थे पिता,

इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि, ‘अब्बा ने पढ़ाई छुड़वाने के लिए वह मेरे स्कूल पहुंच गए थे, लेकिन मेरे टीचर ने उन्हें समझाया और बताया कि मैं पढ़ाई में बहुत अच्छा हूं। इसके बाद किसी तरह दसवीं की।’ इसके बाद अंसार ने 12वीं में 91 प्रतिशत नंबर हासिल किया तब घरवालों ने फिर कभी पढ़ाई के लिए नहीं रोका।

पिता ऑटो चलाकर करते थे परिवार का पालन पोषण

देश के सबसे कम उम्र के आईएएस अधिकारी अंसार अहमद शेख, योनस शेख अहमद के बेटे हैं, जो भारत के महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में एक ऑटोरिक्शा चालक के रूप में काम करते हैं। अंसार शेख के पिता शराब की लत से जूझ रहे थे।

पिता ऑटो चलाकर करते थे परिवार का पालन पोषण
पिता ऑटो चलाकर करते थे परिवार का पालन पोषण

अंसार की मां खेती का काम करती थी। अंसार अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने को तैयार नहीं, अंसार ने एक नया रास्ता अपनाया जिसने आज एक इतिहास रच दिया। अंसार ने बताया था, ‘पापा हर रोज सिर्फ सौ से डेढ़ सौ रुपये तक कमाते थे, जिसमें उनके पूरे परिवार का खर्च चलाना काफी मुश्किल होता था और ऐसे में उनके पिता पढ़ाई के लिए पैसे नहीं दे पाते थे।

इसे भी पढ़े :- जब गुस्से में सनी देओल ने जड़ दिया था बॉबी देओल को थप्पड़, फिर छोटे भाई ने ?

सबसे कम उम्र में IAS बनकर रचा इतिहास

21 साल की छोटी सी उम्र में अंसार अहमद शेख  की कड़ी मेहनत और संघर्ष के सामने मुसीबतों ने हार मान लिया और साल 2015 में अपने पहले प्रयास में ही यूपीएससी की परीक्षा पास कर, इस उम्र में सबसे कम उम्र के आईएएस अधिकारी बन गए । अंसार ने ऑल इंडिया में 371वीं रैंक हासिल की और आईएएस के लिए चुने गए।

सबसे कम उम्र में IAS बनकर रचा इतिहास
सबसे कम उम्र में IAS बनकर रचा इतिहास

अंसार अहमद शेख पश्चिम बंगाल कैडर के आईएएस हैं। वर्ष 2016 में इनके पहली पोस्टिंग पश्चिम बंगाल के कूच बिहार में बतौर एसडीओ के रूप में मिली। वर्तमान में ये एमएसएमई और टेक्सटाइल विभाग में ओएसडी हैं। अंसार की पत्नी का नाम वाईजा अंसारी  है।हमारे इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आप सबका धन्यवाद और इस प्रकार की ओर भी रोचक खबरे जानने के लिए हमारी वेबसाइड Samchar buddy .com जुड़े रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *