21 साल की उम्र में मात्र 30 हज़ार से शुरू किया ये व्यापार इन युवाओं ने, और आज 3 करोड़ रुपए का टर्न ओवर

सागर दरयानी ने वाओ मोमो का किया स्टार्ट अप

अक्सर कई युवा कॉलेज के बाद या तो कोई जॉब ढूँढ़ते हैं, या फिर कोई बिज़नेस करते हैं, या फिर अपना कोई फेमिली बिज़नेस सम्भालते हैं, और बिज़नेस स्टैब्लिश करते-करते कई साल बीत जाते हैं, और कई बार समय के प्रभाव में बहुत से युवा भटक जाते हैं, और कुछ हासिल नहीं कर पाते, लेकिन कुछ युवा ऐसे भी होते हैं, जो कि बहुत ही कम उम्र में सागर दरयानी-“वाओ मोमो” बड़ी सफलता अर्जित कर लेते हैं, और एक बड़ा मुकाम हासिल कर लेते हैं, ऐसे ही एक युवा हैं, सागर दरयानी, जिन्होंने सिर्फ 21 साल की उम्र में एक बड़ा मुकाम हासिल कर लिया हैं, और आज सफलता के उच्च शिखर पर हैं, आईये जानते उनकी सफलता की कहानी !

सागर दरयानी ने एक दोस्त के साथ किया स्टार्ट अप
सागर दरयानी ने एक दोस्त के साथ किया स्टार्ट अप

कॉलेज के एक दोस्त के साथ मिलकर शुरू किया “वाओ मोमो”

सागर दरयानी के एक कॉलेज के दोस्त, बिनोद कुमार दोनों ने मिलकर “वाओ मोमो” कंपनी की शुरुआत की थी, और आज ये कम्पनी करोड़ो का टर्न ओवर कर रहे हैं, और काफी फायदा कमा रहे हैं, बता दे कि इन दो दोस्तों के पास कोई खास अनुभव नहीं था, और फिर भी इन्होने अपने मजबूत होंसले और सागर दरयानी-“वाओ मोमो” अच्छे आईडिया के दम पर ये बिज़नेस शुरू किया, और आज दोनों ही दोस्त सागर विनोद काफी फायदा कमा रहे हैं, और कॉलेज के बाद के युवाओं के लिए रोज़गार का एक अच्छा जरिया भी बन चुके हैं !

सागर दरयानी रखते कई तरह के वैरायटी मोमो
सागर दरयानी रखते कई तरह के वैरायटी मोमो

“वाओ मोमो” के नाम से शुरू किया एक नया स्टार्ट अप

सागर और विनोद ने साल 2008 में कॉलेज के दिनों में ही 21 साल की ही उम्र ये स्टार्ट अप शुरू किया, और मोमो का आईडिया शुरू किया और आज से करोडो का टर्न ओवर हो चुका हैं, और जब इस कम्पनी को शुरू किया गया था , तो दोनों ने मात्र 30 हज़ार रुपए के निवेश से इस काम को शुरु किया था, और सागर दरयानी-“वाओ मोमो” आज ये कम्पनी का टर्न ओवर 3 करोड़ तक का हो गया हैं, और सागर और विनोद किसी दूसरे युवा की तरह न तो कोई दूसरा करियर करने की सोची, न ही कुछ और, बल्कि अपने ही पैरो पर खड़े होने की तैयारी की !

सागर दरयानी कर चुके हैं कई युवाओ को प्रेरित
सागर दरयानी कर चुके हैं कई युवाओ को प्रेरित

सागर दरयानी-“वाओ मोमो” अपने ही पिता के गेराज में शुरू किया काम

सागर ने और किसी युवा कि तरह न तो उन्होंने न तो दुकान लेने की सोची, न ही कोई रेंटेड जगह, बल्कि उन्होंने अपने ही पिता के गैराज को अपना बिज़नेस शुरू करने के लिए चुना और उसी स्टोर में काम शुरू किया, और यहीं पर मोमो बनाने शुरू किये, और उन्हें बेचा, और उन्होंने राम जी नाम के एक बन्दे को 3000 रुपए पर पार्ट टाइम में मोमो बनाने के लिए हायर किया, और उसी व्यक्ति की सैलरी 1.5 लाख रूपये हैं, और वो शेफ हेड भी बन चुके हैं, और सागर और विनोद के शुरुआत के दिनों में उनकी मंथ की सेल करीब 53 हज़ार रुपए थे , जिससे होंसला भी मिला!

सागर दरयानी मिल चुके हैं सौरव गांगुली से भी
सागर दरयानी मिल चुके हैं सौरव गांगुली से भी

इसे भी अवश्य पढ़े:- एक फेलयर! जिसने बदल दी सफलता की परिभाषा, कोटा के बावजूद भी हुए IIT में फेल, लेकिन नहीं मानी हार, और आज

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद , ऐसे ही दिलचस्प किस्से जानने के लिए जुड़े रहिये samachar buddy के साथ, और हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करना न भूले!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *