“आप नहीं जानते कि अकेला रहना कैसा होता है?” अपने ऑफिस के कर्मचारी के स्टार्ट अप कार्यक्रम मे छलका रतन टाटा का अकेलापन का दर्द

रतन टाटा ने बुजुर्गों की सेवा के लिए एक स्टार्टअप गुड फेलोज में निवेश किया

रतन टाटा जी को आज किसी पहचान की ज़रुरत नहीं है। क्योकि उन्हें आज हर इंसान जानता है। और समझता भी है। दरअसल उनके अब तक के बिज़नेस के समय में सबसे ख़ास बात रही है, और वे न सिर्फ अपने बिज़नेस के लिए जाने जाते है, बल्कि वे ख़ास व्यवहार के लिये भी जाने जाते है। और पुरे भारत में ही नहीं, बल्कि पुरे विश्व में भी उनकी एक खास पहचान बनी हुई है। और ये वाकई में ही बहुत अच्छी बात है। लेकिन शायद बहुत ही कम लोग ये बाते जानते है, कि रतन टाटा जी ने शादी नहीं की है। अब उसके उनके निजी कारण ही रहे होंगे ,बहरहाल ! आज हम रतन टाटा जी से जुडी एक खास खबर के बारे में बातएंगे, क्योकि अभी कुछ ही समय में पहले ही उनके ऑफिस के एक कार्यकरता ने बुजुर्गो के लिए एक स्टार्ट अप किया है। और बस उसी मे रतन टाटा जी की तरफ से निवेश भी किया गया है। और उनके अकेलेपन का दर्द भी उसी क्रायक्रम में छलक उठा।

रतन टाटा जी के के ऑफिस में काम करता है शांतनु
रतन टाटा जी के के ऑफिस में काम करता है शांतनु

 टाटा जी के के ऑफिस में काम करता है शांतनु

बता दे कि शन्तनु नाम का ये लड़का रतन जी के ऑफिस में ही मैनेजर के पद पर कार्यरत है। और उन्हें सलाह देने का भी काम करते है। और उन्होने अपने ऑफिस के शान्तनु के इस नए और अनोखे स्टार्ट अप में उनका साथ भी दिया है। और निवेश भी किया है। और निवेश उन्होंने कितना किया है, इस बात की जानकारी तो नहीं मिल पायी है, लेकीन उन्होंने शान्तनु के इस काम को सरहानीय भी बताया है।

कार्यक्रम में छलका रतन टाटा का दर्द
कार्यक्रम में छलका रतन टाटा का दर्द

इसे भी अवश्य पढ़े:-डिग्री नहीं, आपका हुनर आपका भविष्य तय करता है, गणित में 36 नंबर लाने वाला ये शख्स आज है आईएएस अधिकारी

कार्यक्रम में छलका रतन टाटा का दर्द

रतन टाटा जी जब शांतनु के स्टार्ट अप कार्यक्रम में पहुंचे थे, तो वहां उनके अकेलेपन का दर्द भी साथ में छलक उठा। क्योकि वहां उन्होंने कुछ ऐसा कह दिया, जो वाकई ही बहुत गहराई भरा भी था। और भावुक करने वाला भी था। उन्होंने कार्यक्रम में शिरकत की, और कहा कि ‘आप नहीं जानते कि अकेले रहना कैसा होता है? जब तक आप अकेले समय बिताने के लिए मजबूर नहीं होते तब तक अहसास नहीं होगा ‘।

रतन टाटा जी जब शांतनु के स्टार्ट अप कार्यक्रम में पहुंचे थे, तो वहां उनके अकेलेपन का दर्द भी साथ में छलक उठा
रतन टाटा जी जब शांतनु के स्टार्ट अप कार्यक्रम में पहुंचे थे, तो वहां उनके अकेलेपन का दर्द भी साथ में छलक उठा

इसे भी अवश्य पढ़े:-एक बार ही होगा बस इतना सा खर्चा, और बना सकेंगे शानदार बिज़नेस, उत्तर प्रदेश के मोहित चौहान ने भी शुरू किया ये सोलर …

ऐसे ही दिलचस्प खबरों के लिए जुड़े रहिये समाचार बडी से, धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *