पुराने रेल के एसी के डिब्बों को इस्तेमाल करके बनाया गया रेस्टोरेंट्स लोग उठा रहे हैं यहां के सजावट और व्यंजनों का लुफ्त

उत्तर-पूर्व सीमान्त रेलवे ने सिलीगुड़ि के न्यू, जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन पर ,पहली बार रेस्टोरेंट ऑन व्हील्स की सुविधा शुरु की।

रेलगाड़ी ,जो कि हमारे भारत में अंग्रेजों के समय आया था। और इसे अंग्रेज ही लेकर के आए थे। ताकि वह हम पर और भी अच्छे तरीके से शासन कर सकें ।उन्होंने रेलवे का आविष्कार इसीलिए किया, ताकि हमारे ऊपर ओर भी कड़ी नजर रख सके। और हम भारतवासियों का शोषण कर सकें। लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, और हमें आजादी मिली तो ,आज यही रेलवे हमारे उन्नति का कारण भी है। आज इस रेलवे के कारण ही हम दूसरे देशों में अपने यहां से बना हुआ पक्का माल भेज कर बेचते हैं। और खूब सारा पैसा कमाते हैं। आज हमारे देश की उन्नति हो रही है। लेकिन दोस्तों रेलगाड़ी बनाने में जो खर्चा आता है ,वह बहुत होता है। और जब इस रेलगाड़ी के डिब्बे जर्जर स्थिति में हो जाता है ,तब इसको प्रयोग में नहीं लाया जाता। और इस तरह से हमारे देश में कूड़ा कुछ ज्यादा ही बढ़ रहा था । लेकिन दोस्तों आज उत्तर पूर्वी रेलवे ने कूड़े को भी शानदार बना दिया। आजकल लोग खराब चीजों से कितनी सुंदर चीजें बना देते हैं।

आज उत्तर पूर्वी रेलवे ने कूड़े को भी शानदार बना दिया
आज उत्तर पूर्वी रेलवे ने कूड़े को भी शानदार बना दिया

कुछ और भी जानते हैं रेलवे के इस कला के बारे में

उत्तर-पूर्व सीमान्त रेलवे ने सिलीगुड़ि के न्यू, जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन पर ,पहली बार रेस्टोरेंट ऑन व्हील्स की सुविधा शुरु की। जो अनेकों पर्यटकों के लिए एक बहुत बड़ा तोहफा है। जी हां दोस्तों ,रेलवे स्टेशन पर पहली बार रेस्टोरेंट की सुविधा शुरू की है ।जिससे अब पर्यटकों को खाने की चिंता नहीं होगी ।अब उनको खाना रेलवे प्लेटफार्म पर ही मिल पाएगा। इससे एक पंथ दो काज हुए हैं ,एक तो रेलवे प्लेटफार्म की सुंदरता बढ़ गई ,और दूसरा पर्यटकों को जो खाना खाने के लिए दूर जाना पड़ता था। वह समस्या भी हल हो गया। अब उनको रेलवे प्लेटफार्म पर स्वच्छ खाना और स्वस्थ खाना मिल जाएगा।

जो रेल के डिब्बे काम में नहीं आ रहे थे, अब उनसे एक अच्छा रेस्टोरेंट बना दिया गया है
जो रेल के डिब्बे काम में नहीं आ रहे थे, अब उनसे एक अच्छा रेस्टोरेंट बना दिया गया है

इसे भी अवश्य पढ़े:-ये कोई सामान्य दीया नहीं है, कुछ घंटे नहीं, बल्कि 36 घंटो तक लगातर जलता है ये अनोखा दीया, इस कुम्हार ने बनाया है ये जादुई दीया

उत्तर पूर्वी रेलवे बन गया है ओर भी खास

इससे रेलवे की सजावट और साज-सज्जा में चार चांद लग गया है। इससे रेलवे की कमाई भी खूब होगी, अब पर्यटकों को सोचना नहीं पड़ेगा, क्योंकि उनको खाना खाने के लिए कहीं जाना नहीं है ।आशा करते हैं उत्तर पूर्वी रेलवे ऐसे नए-नए आईडिया से रेलवे प्लेटफार्म को और भी अच्छा बनाएंगे ।और लोगों के लिए सुविधाजनक भी ।अब तो खाना, पीना और सोना तीनों रेलवे स्टेशन पर आसान हो जाएगा ।रेस्टोरेंट्स काफी अच्छे हैं ,और किफायती भी हैं। आपको जरूर यहां जाना चाहिए और यहां के व्यंजनों का लुफ्त उठाना चाहिए। ऐसा रेलवे जगत में पहली बार हो रहा है, कि जो रेल के डिब्बे काम में नहीं आ रहे थे, अब उनसे एक अच्छा रेस्टोरेंट बना दिया गया है ।यहां पर इतनी अच्छी सजावट की गई है कि ,लोगों को यहां बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा है। यह रेस्टोरेंट्स ए सी के डिब्बों को इस्तेमाल करके बनाया गया है ।जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लग रहा है।

रेलवे की सजावट और साज-सज्जा में चार चांद लग गया है।
रेलवे की सजावट और साज-सज्जा में चार चांद लग गया है।

इसे भी अवश्य पढ़े:- ज़िंदगी के सफर में पति ने साथ छोड़ दिया, तो हो गयी थी डिप्रेशन का शिकार, बच्चो ने दी हिम्मत, तो वेट लिफ्टिंग में बन गयी गोल्ड मैडल चैंपियन

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका आभार ,ऐसे ही दिलचस्प खबरों के लिए जुड़े रहिये समाचार बडी से, धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *