इस फिल्म जॉनी मेरा नाम’ को देखने के लिए सिनेमा घरो में भीड़ हो गए थी बेकाबू , पुलिस को चलानी पड़ी थी गोलियां

इस फिल्म जॉनी मेरा नाम’ को देखने के लिए सिनेमा घरो में भीड़ हो गए थी बेकाबू , पुलिस को चलानी पड़ी थी गोलियां

हेमा मालिनी और देव आनंद की जोड़ी को दर्शकों ने हाथों हाथ लिया. इस फिल्म को लेकर बताते हैं कि निर्माता गुलशन राय और शो मैन राज कपूर के बीच फिल्म के नाम को लेकर तनातनी हो गई थी। राज कपूर को अपनी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ से काफी उम्मीदें थी लेकिन उन्हें जब पता चला कि इस नाम से मिलती-जुलती बन रही है तो हैरान रह गए थे।हेमा मालिनी  और देव आनंद  की जोड़ी पहली बार फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ में बनी थी। इस जोड़ी को दर्शकों ने इतना प्यार दिया कि हेमा और देव आनंद ने कई फिल्मों में साथ काम किया।इस फिल्म को लेकर कई तरह के किस्से बॉलीवुड के गलियारों में सुनाए जाते हैं. जहां इस फिल्म की मेकिंग के पीछे शो मैन राज कपूर का ताना बताया जाता है तो खुद हेमा मालिनी ने बताया था कि उनका सपना इस फिल्म में काम करके पूरा हुआ था।जॉनी मेरा नाम’  जब रिलीज हुई तो इस फिल्म ने जबरदस्त सफलता अपने नाम की।

जॉनी मेरा नाम’  जब रिलीज हुई तो इस फिल्म ने जबरदस्त सफलता अपने नाम की।
जॉनी मेरा नाम’  जब रिलीज हुई तो इस फिल्म ने जबरदस्त सफलता अपने नाम की

इसे भी पढ़े :- संजय दत्त की माँ और प्रेमिका का किरदार निभा चुकी अरुणा ईरानी खुद किया खुलसा एक्टर्स ने इन दोनों किरदार निभाते हुई मुझे ?

फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ के लिए सिनेमा घरो में भीड़ हो गए थी बेकाबू

70 के दशक में देवा आनंद को लेकर लड़कियों में गजब का क्रेज था। कहते हैं कि देव आनंद जब ब्लैक कोट में निकलते थे तो लड़कियां मर-मिटने के लिए तैयार हो जाती थी। ऐसी खबरे खूब सामने आई कि देव आनंद के काले कोट पर बैन लगा दिया था,क्योंकि लड़कियां उन्हें देख छत से कूद पड़ती थी। ऐसा स्टारडम कम ही देखने को मिलता था। उस दौर की हर एक्ट्रेस देव साहब के साथ काम करना चाहती थी। कुछ ऐसा ही तमन्ना नई नवेली एक्ट्रेस हेमा मालिनी की भी थी। ऐसे में जब देव आनंद के साथ फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ का ऑफर मिला तो हेमा को ऐसा लगा कि उनका सपना पूरा हो गया।

फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ के लिए सिनेमा घरो में भीड़ हो गए थी बेकाबू
फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ के लिए सिनेमा घरो में भीड़ हो गए थी बेकाबू

हेमा मालिनी ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में बताया था कि ‘मैं फिल्म इंडस्ट्री में नई थी और देव आनंद साहब बड़े स्टार थे। ‘जॉनी मेरा नाम’ फिल्म के डायरेक्टर उनके भाई विजय आनंद थे। देव साहब की महानता थी कि उन्होंने मुझे एहसास नहीं करवाया कि मैं पहली बार उनके साथ काम कर रही हूं या फिर मैं एक नई एक्ट्रेस हूं।

हेमा मालिनी जब बुरी तरह घबरा गई थीं
हेमा मालिनी जब बुरी तरह घबरा गई थीं

देव साहब इतने प्रोटेक्टिव थे कि फिल्म के एक गाने की शूटिंग के दौरान पूरी टीम बिहार के राजगीर गई हुई थी। शूटिंग देखने के लिए भारी भीड़ जमा हो गई थी। शूटिंग के बीच कुछ ऐसा हुआ कि भीड़ बेकाबू हो गई और देव साहब ने किसी तरह उन्हें बचाया’।

इसे भी पढ़े :- शॉर्ट ड्रेस बनी रश्मिका मंदाना के लिए हुई बड़ी आफत, फिर शॉर्ट ड्रेस में ऊप्स मोमेंट के कारण होना पड़ा शर्मिंदा एक्टर्स को

पुलिस को चलानी पड़ी थी गोलिया

इस फिल्म की शूटिंग के दौरान हुआ हादसा तो हेमा मालिनी आज तक नहीं भूल पाई हैं।इसका जिक्र हेमा ने अपनी बुक ‘बियॉन्ड द ड्रीम गर्ल’ में किया है।हेमा मालिनी और देव आनंद केबिल कार में शूटिंग कर रहे थे। कार जैसे ही बीच में पहुंची अचानक रुक गई। नीचे देखा तो गहरी खाई थी। दोनों एक्टर्स की सांस अटक गई। किसी तरह देव आनंद ने घबराई हुई हेमा को सम्हाला और आनन-फानन में क्रू ने नीचे उतारा। बाद में पता चला कि ये शरारत किसी फैन की थी।

पुलिस को चलानी पड़ी थी गोलिया
पुलिस को चलानी पड़ी थी गोलिया

हेमा बुरी तरह परेशान थी तो देव साहब जैसा स्टार था जिसने अपने जॉली अंदाज से उन्हें नॉर्मल किया। 70 के दशक में सबसे ज्यादा कारोबार करने वाली फिल्म बन गई। इस फिल्म ने 50 लाख का कारोबार किया था जब 1 लाख ही बड़ा अमाउंट होता था।हमारे इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आप सबका धन्यवाद और इस प्रकार की ओर भी रोचक खबरे जानने के लिए हमारी वेबसाइड Samchar buddy जुड़े रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *