अम्बानी परिवार की बेटी ईशा अंबानी राजस्थान के इस गांव की बहू हैं और 100 साल से भी ज्यादा पुरानी उनकी पुश्तैनी हवेली देखें तस्वीरें

अम्बानी परिवार की बेटी ईशा अंबानी राजस्थान के इस गांव की बहू हैं और 100 साल से भी ज्यादा पुरानी उनकी पुश्तैनी हवेली

अंबानी परिवार की लाडली बेटी ईशा अंबानी की शादी मशहूर बिजनेसमैन अजय पीरामल के बेटे आनंद पीरामल से हुई है।आनंद पीरामल मूल रूप से राजस्थान के झुंझुनू के बगड़ कस्बे के रहने वाले हैं. पीरामल परिवार का यह पैतृक गांव है।ईशा अंबानी भी शादी के बाद अपने ससुराल में आती जाती रहती हैं।बगड़ भले ही एक छोटा कस्बा है. लेकिन, यहां की हवेलियां दुनियाभर में मशहूर हैं.अंबानी और पीरामल परिवार पिछले चार दशक से दोस्त थे और उनकी दोस्ती अब रिश्तेदारी में बदल गयी है. 67 हजार करोड़ से ज्यादा के पीरामल बिजनेस एम्पायर की शुरुआत 1920 में हुई थी।जब पहले वर्ल्ड वॉर के बाद अजय पीरामल के दादा सेठ पीरामल चतुर्भुज मखारिया 50 रुपए लेकर राजस्थान के बगड़ कस्बे से बॉम्बे पहुंचे थे।

बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली
बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली

इसे भी पढ़े :- कियारा आडवाणी को शार्ट ड्रेस ने को किया शर्मिंदा, हवा के झोंके से उड़ने लगी ड्रेस और ऊप्स मोमेंट्स की शिकार

ईशा अंबानी भी शादी के बाद अपने ससुराल में

बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली है. यहां की हवेलियां काफी मशहूर हैं. लेकिन, पीरामल हवेली की बात ही कुछ और है. अंदर की वास्तु-कला काफी भव्य है।

पुश्तैनी हवेली आज भी पीरामल ग्रुप के पास ही
पुश्तैनी हवेली आज भी पीरामल ग्रुप के पास ही

माना जाता है कि इस हवेली को अब होटल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. जिसमें टूरिस्ट आकर रुकते हैं. यह पुश्तैनी हवेली आज भी पीरामल ग्रुप के पास ही है।

 

देश की सबसे अमीर बेटी ईशा अंबानी है राजस्थान के इस गांव की
देश की सबसे अमीर बेटी ईशा अंबानी है राजस्थान के इस गांव की

 

इतिहास के जानकारों के मुताबिक, पन्द्रहवीं शताब्दी(1443) से अठारहवीं शताब्दी के मध्य यानी 1750 तक इस इलाके में शेखावत राजपूतों का आधिपत्य था।

Isha Ambani in law's Piramal Bungalow in Mahabaleshwar, Check out Pics | ये  है ईशा अंबानी की ससुराल का आलीशान बंगला, यहीं आनंद ने किया था प्रपोज

बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली

तब इनका साम्राज्य सीकरवाटी और झुंझनूवाटी तक था. शेखावत राजपूतों के आधिपत्य वाला इलाका शेखावाटी कहलाया।

बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली
बगड़ कस्बे में आज भी पीरमल ग्रुप की पुश्तैनी हवेली

लेकिन भाषा-बोली, रहन-सहन, खान-पान, वेष भूषा और सामाजिक सांस्कृतिक तौर-तरीकों में एकरूपता होने के नाते झुंझुनू और चुरू जिला भी शेखावटी का हिस्सा माना जाने लगा।

:राजस्थान के इस कसबे में है ईशा अंबानी का पैतृक ससुराल
राजस्थान के इस कसबे में है ईशा अंबानी का पैतृक ससुराल

इतिहासकार सुरजन सिंह शेखावत की किताब ‘नवलगढ़ का संक्षिप्त इतिहास’ की भूमिका में लिखा है कि राजपूत राव शेखा ने 1433 से 1488 तक यहां शासन किया।

ईशा अंबानी का पैतृक ससुराल
ईशा अंबानी का पैतृक ससुराल

हमारे इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आप सबका धन्यवाद और इस प्रकार की ओर भी रोचक खबरे जानने के लिए हमारी वेबसाइड ”Samchar buddy .com से जुड़े रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *