पर्यावरण के लिए कुछ ऐसा है इनका प्रेम, कि बंजर धरती में भी फूंक दिए प्राण, महीनो मेहनत करके इस बुजुर्ग दम्पत्ति ने बना डाला एक खूबसूरत जंगल

78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने बनाया जंगल

पर्यावरण के बचाव की बात तो हर कोई करता है, लेकिन इसके लिए कार्य कोई नहीं करता है। बहुत ही कम लोग ऐसे होते है, जो इसके लिए सक्रीय रूप से कार्य करते है। और आजकल के युवा तो इसके लिए कार्य करने के लिए अपनी ऊर्जा का इस्तेमाल भी नहीं करते है। और जबकि उनकी इतनी सक्रीय नहीं कार्य करते है। क्योकि वे करियर बनाने में ज्यादा समय देने की बात करते है, हांलाकि वे समाज के इस मह्त्वपूर्ण पहलु को नहीं देखते है। और ये इसलिए गलत है। जबकि अगर आज के युवा इतना हिम्मत तो रखते ही है कि वे पर्यावरण के लिए कार्य कर सके। क्योकि आज हमारी इस पृथ्वी में पेड़ जंगल का बहुत बुरा हाल है। कई लोग लालच के चक्कर में वो पेड़ो को काट देते है। और इस तरह से जंगलो का विनाश हो रहा है। आज हम ऐसे बुजुर्ग दम्पत्ति की कहानी लेकर आये है ,. जिन्होंने एक बंजर ज़मीन को एक खूबसूरत जंगल में बदल दिया है , 78 वर्षीय नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने एक मानव निर्मित जंगल का निर्माण किया है।आईये जानते है उनकी कहानी के बारे में।

78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी जी ने अपने इस जंगल को बनाकर एक नया और अनोखा काम किया है
78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी जी ने अपने इस जंगल को बनाकर एक नया और अनोखा काम किया है

78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने बनाया जंगल

बता दे कि, उत्तराखंड के 78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने उत्तराखंड के एक गाँव झकोरि में रहते हुए , उसकी सेवा की थी। और वे उसे एक बेहतर स्थान बनाना चाहते थे , और इस उम्र में भी उन्हकै होंसला बिलकुल भी कम नहीं हुआ है। बल्कि उन्होने इस उम्र में भी इस बंजर जगह को एक वीरान से इतना सुंदर जंगल बना दिया है।

हज़ारो से ज्यादा लगाए हुए है पौधे
हज़ारो से ज्यादा लगाए हुए है पौधे

इसे भी अवश्य पढ़े:-कोरोना काल में जहाँ सांस लेना भी था दुश्वार, ऐसे समय में डोलो650 का मच गया था हाहाकार, संकट की घडी में इस कम्पनी ने कमाए 86 लाख से ज्यादा हर दिन (samacharbuddy.com)

हज़ारो से ज्यादा लगाए हुए है पौधे

78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी जी ने अपने इस जंगल को बनाकर एक नया और अनोखा काम किया है , अक्सर इस उम्र में बहुत से लोग ऐसे लोग होते है, जो इस उम्र में इस काम के बारे में सोचते है। तो ऐसे में इन बुजुर्ग दंपत्ति ने ये काम करके ह्रदय जीत लिया है। और सभी के लिए प्रेरणा दे दी है।

उत्तराखंड के 78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने उत्तराखंड के एक गाँव झकोरि में रहते हुए , उसकी सेवा की थी।
उत्तराखंड के 78साल के नारायण सिंह मेहरा और 70 वर्षीय नंदादेवी ने उत्तराखंड के एक गाँव झकोरि में रहते हुए , उसकी सेवा की थी।

इसे भी अवश्य पढ़े:-इंसानियत सीखनी है, तो इस व्यक्ति से सीखिए, एक बार में ही मिले युवा को अपनी कैब में दे दी पहले सोने की जगह, फिर खिलाया 

ये लेख पढ़ने के लिए आपका आभार, ऐसे ही दिलचस्प खबरों के लिए जुड़े रहिये समाचार बडी से, धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *